Browse songs by

kyaa miliye aise logo.n se, jinakii fitarat chhupii rahe

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


क्या मिलिये ऐसे लोगों से, जिनकी फ़ितरत छुपी रहे
नकली चेहरा सामने आए, असली सूरत छुपी रहे

खुद से ही जो खुद को छुपाए, क्या उनसे पहचान करें
क्या उनके दामन से लिपटें, क्या उनका अरमान करें
जिनकी आधी नीयत उभरे, आधी नीयत छुपी रहे,
नकली ...

दिलदारी का ढोंग रचाकर, जाल बिछाए बातों का
जीते जी का रिश्ता कहकर, सुख ढूँढे कुछ रातों का
रूह की हसरत लब पे आए, जिस्म की हसरत छुपी रहे,
नकली ...

Comments/Credits:

			 % Credits: rec.music.indian.misc (USENET newsgroup) 
%          C.S. Sudarshana Bhat (ceindian@utacnvx.uta.edu)
% Editor: Anurag Shankar (anurag@astro.indiana.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image