Browse songs by

kabhii hai.n Gam kabhii Kushiyaa.N

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


कभी हैं ग़म कभी खुशियां यही तो ज़िन्दगानी है
कभी लब पर हँसी है और कभी आँखों में पानी है
कभी हैं ग़म

ने घबरा आसमां पर छा गया है आज अगर बादल - २
के ये बादल ही चन्दा के निकलने की निशानी है - २
कभी हैं ग़म

भरा करते हैं ज़ख्म-ए-दिल और आँसू भी हैं थम जाते - २
और आँसू भी हैं थम जाते
बनाई जिसने दुनिया ये उसी की मेहरबानी है - २
कभी हैं ग़म ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Anurag Shankar (anurag@chandra.astro.indiana.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image