Browse songs by

kaa.nTo.n kii chubhan paayii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


कांटों की चुभन पायी, फूलों का मज़ा भी
दिल ददर् के मौसम में, रोया भी हँसा भी

आने का सबब याद, न जाने की खबर है
वो दिल में रहा और उसे तोड़ गया भी

हर एक से मंज़िल का पता पूछ रहा है
गुम्राह मेरे साथ हुअ राह्नुमा भी

गुमनाम कभी अपनो से जो ग़म हुए हासिल
कुछ याद रहे उन में तो कुछ भूल गया भी

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
% Comments : Album - Desires
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image