Browse songs by

jis dharatii ke a.ng a.ng par ... vatan ke rakhavaale

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


जिस धरती के अंग अंग पर रंग शहीदों ने डाले -२
उस धरती को दाग़ लगे ना देख वतन के रखवाले
जिस धरती के अंग अंग पर ...

ये राम और गौतम की नगरी प्रेम अहि.म्सा इसकी बोली
गूंजे कहीं सूफ़ी की अजान कहीं गाए संतों की बोली
साँझ सवेरे इनके सिर पर गंगा जमुना आँचल डालें
जिस धरती के अंग अंग पर ...

आने वाले हर दुश्मन को पहले किया है प्यार भी हमने
फिर नहीं माना तो रख दी है गर्दन पर तलवार भी हमने
मोम भी हैं फ़ौलाद भी हैं हम भारत माँ की गोद के पाले
जिस धरती के अंग अंग पर ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image