Browse songs by

jazbaa\-e\-ishq jo salaamat hai to inshaa\-allaah

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


र : जज़्बा-ए-इश्क़ जो सलामत है तो इन्शा-अल्लाह
कच्चे धागे में चले आएँगे सरकार बँधे

इश्क़ में जब शिकवे लब तलक़ आएंगे
दिल तो दिल पत्थर भी सुन के हिल जाएँगे
( इश्क़ की हम पे ) -२ इनायत है तो इन्शा-अल्लाह
कच्चे धागे में ...

सु : जज़्बा-ए-इश्क़ जो सलामत है इन्शा-अल्लाह
कच्चे धागे में ...

इश्क़ में जब शिकवे लब तलक़ आएंगे
दिल तो दिल पत्थर भी सुन के हिल जाएँगे
( इश्क़ की हम पे ) -२ इनायत है तो इन्शा-अल्लाह
कच्चे धागे में ...

हम पुकारें लेकिन आप रुक जाते हैं
दो क़दम चलने में पाँव दुख जाते हैं
( ये अदाओं की ) -२ नज़ाकत है तो इन्शा-अल्लाह
कच्चे धागे में ...

र : दिल को क्या रोकोगे दिल तो बेक़ाबू है
सु : हाय बड़ा ही ज़ालिम प्यार का जादू है
र : आपको हमसे
सु : आपको हमसे
दो : आपको हमसे मोहब्बत है तो इन्शा-अल्लाह
कच्चे धागे में ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image