Browse songs by

jay jay shiv sha.nkar

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


जय जय शिव शंकर
काँटा लगे न कंकर
जो प्याला तेरे नाम का पिया
ओ~ गिर जाऊँगी, मैं मर जाऊँगी
जो तूने मुझे थाम न लिया
सो रब दी!

एक के दो दो के चार हमको तो दिखते हैं
ऐसा ही होता है जब दो दिल मिलते हैं
सर पे ज़मीं पाँव के नीचे है आसमान, हो~
सो रब दी~
जय जय शिव श,न्कर ...

कंधे पे सर रख के तुम मुझको सोने दो
मस्ती में जो चाहे हो जाये होने दो
ऐसे में तुम हो गये बड़े बेईमान, हो~
सो रब दी!
जय जय शिव शंकर ...

रस्ते में हम दोनों घर कैसे जायेंगे
घर वाले अब हमको खुद लेने आयेंगे
कुछ भी हो लेकिन मज़ा आ गया मेरी जान, हो~
सो रब दी!
जय जय शिव शंकर ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image