Browse songs by

jawaa.N muhabbat hasiin aa.Nkhon me.n

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


मुकेश:
(जवाँ मुहब्बत हसीन आँखों में
किस लिये मुस्कुरा रही है -२) -२
क्यूँ क्यूँ क्यूँ जी

लता:
जो बात आई थी अपने दिल में
वो उनके दिल में -२
भी आ रही है
जो बात आई थी

मु:
ये भीगी भीगी हसीन रातें -२
ये प्यारी प्यारी तिहारी बातें
तिहारी बातें
ल:
आऽ
बहार आई, बहार आकर
कोई नया गुल खिला रही है -२
बहार आई है

ज़रा मेरा हाथ हाथ में लो
मु:
ज़रा मेरे दिल पे हाथ रख दो
हाथ रख दो
ल:
क्यूँ क्यूँ क्यूँ जी
मु:
सुनो तो इक बेज़ुबान दिल से
ये (कैसी आवाज़ आ रही है -२)

ल:
जो बात आई है तेरे दिल में
वो मेरे दिल में -२
भी आ रही है
जो बात आई है

मु:
क़रीब आओ, गले लगा लूँ
यहाँ छुपा लूँ, यहाँ बसा लूँ
यहाँ बिठा लूँ
ल:
क्यूँ क्यूँ क्यूँ जी
मु:
मुझे बहुत प्यार आ रहा है
ल:
मगर मुझे लाज आ रही है -२

दोनो:
जो बात आई थी अपने दिल में
वो उनके दिल में -२
भी आ रही है
जो बात आई थी

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Abhay Phadnis
% Date: 20 Nov 2004
% Series: Latanjali
% generated using giitaayan
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image