Browse songs by

hazaaro.n saal se insaa.N kaa dil ... vo masiihaa aayaa hai

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


हज़ारों साल से इन्साँ का दिल आँसू बहाता है
हज़ारों साल से कोई मसीहा बन के आता है
वो मसीहा आया है
बहुत दिनों ग़म ने हमें तड़पाया है

काँटों में पर्वत को देख रहा है फूल बहारों का
वो एक अकेला है जिसके दिल में दर्द हज़ारों का
वो एक अकेला मसीहा आया है
दवा सभी बीमारों की लाया है
वो मसीहा आया ...

लो वो आगे चल निकला है तुम उसके पीछे हो जाओ
या पहुँचो अपनी मंज़िल पे या इन राहों में खो जाओ
क़सम उठा के उसने क़दम उठाया है
वो मसीहा आया ...

( डर ख़ौफ़ भरम ) -२ सब हार गए इंसान की फ़ितरत जीत गई
जागो देखो खोलो आँखें वो रात दुखों की बीत गई
उठो किसी ने नींद से तुम्हें जगाया है
वो मसीहा आया ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image