Browse songs by

har zabaa.n rukii ... ai vatan ke naujavaano

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ओ ओ आ
हर ज़बां रुकी रुकी, हर नज़र झुकी झुकी
क्या यही है ज़िंदगी, क्या यही है ज़िंदगी

ऐ वतन के नौजवानों, जाग और जगा के चल - २
(कोरस: जाग और जगा के चल)
ज़ुल्म जिस कदर बढ़े, और सर उठा के चल
(कोरस: जाग और जगा के चल)

(काम्प है तेरी नज़र, उनके दिल में चोर है
उन में बल है, तेरे भी बाज़ुओं ज़ोर है) - २
ज़ालिमों का हुरूर ख़ाक में मिला के चल
ऐ वतन के नौजवानों ...

(क्या समंदरों का शोर, और भँवर की चाल है
तेरे आगे सर उठाए, मौज की मजाल क्या) - २
खोल ज़िंदगी की नाव, बादबां उड़ा के चल
ऐ वतन के नौजवानों ...

(कारवां वतन का आज डाकुओं में घिर गया
ज़ुल्म के अंधेरे में आ रही है इस सदा) - २
इंतेक़ाम का मशाल हाथ में जला के चल

कोरस: इंतेक़ाम, इंतेक़ाम, इंतेक़ाम

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar 
% Date: 02/20/1997
% Credits : Vish Krishnan, Neha Desai
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image