Browse songs by

hai kalii kalii kii lab par, tere husn kaa fasaanaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


है कली कली के लब पर, तेरे हुस्न का फ़साना
मेरे गुल्सिताँ का सब कुछ, तेरा सिर्फ़ मुस्कुराना

ये खुले खुले से गेसू, उठे जैसे बदलियां सी,
ये झुकी झुकी निगाहें, गिरे जैसे बिजलियां सी
तेरे नाचते कदम में है बहार का खज़ाना
है कली कली के लब पर, तेरे हुस्न का फ़साना ...

तेरा झूमना मचलना, जैसे सर (?) बदल बदल के
मेरा दिल धड़क रहा है, तू लचक सम्भल सम्भलके
कहीं रुक ना जाये ज़ालिम इस मोड़ पर ज़माना
है कली कली के लब पर, तेरे हुस्न का फ़साना ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Ravi Kant Rai (rrai@plains.nodak.edu)
% Editor: Anurag Shankar (anurag@chandra.astro.indiana.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image