Browse songs by

Gairo.n se ab sunaa karo naGme.n bahaar ke

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


ग़ैरों से अब सुना करो नग़्में बहार के
हम तो चले मता-ए-दिल-ओ-जान हार के

बाद-ए-सहर ने जब तेरे आने की दी नवीद
मुर्झाये फूल खिल उठे मेरे मज़ार के

अक्सर उसी पे जा के गिरी बर्क-ए-बे-अमाँ
तुरग़े बुलंद हो गये जिस शाख़सार के

जलने को दिल तो दे दिया दिल को ज़बाँ न दी
देखे हैं हमने हौसले परवरदिगार के

सूरज की धूप भी इन्हें शायद ही धो सके
जो हाशिये उफ़क़ पे हैं दर्द-ओ-ग़ुबार के

Comments/Credits:

			 % This is also in "Saher Hone Tak"
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image