Browse songs by

gaa rahii hai zi.ndagii har taraf bahaar me.n kis liye

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


(म: गा रही है ज़िंदगी हर तरफ़ बहार में किस लिये
अश: चार चांद लग गये हैं तेरे मेरे प्यार में इस लिये) -२

म: आ गया आँचल किसी का आज मेरे हाथ में -२
अश: है चकोरी आज अपने चँद्रमा के साथ में -२
म: चल पडी दो किश्तीयाँ आज एक धार में किस लिये
अश: चार चांद लग गये हैं तेरे मेरे प्यार में इस लिये
म: गा रही है ज़िंदगी हर तरफ़ बहार में किस लिये
अश: चार चांद लग गये हैं तेरे मेरे प्यार में इस लिये

अश: (छू रही तन मन को मेरे प्रीत की पुर्वाईयाँ
दूर की अम्ब्राईओं में गुँजती शेहनाईयाँ) -२
म: सौ गुना निखार है आज तो सिंगार में किस लिये
अश: चार चांद लग गये हैं तेरे मेरे प्यार में इस लिये
म: गा रही है ज़िंदगी हर तरफ़ बहार में किस लिये
अश: चार चांद लग गये हैं तेरे मेरे प्यार में इस लिये

अश: ज़िंदगी भर के लिये तू बाँह मेरी थाम ले -२
जब तलक ये साँस है हर साँस तेरा नाम ले -२
म: इक नयी दुनिया खडी अपने इंतेज़ार में किस लिये
अश: चार चांद लग गये हैं तेरे मेरे प्यार में इस लिये
म: गा रही है ज़िंदगी हर तरफ़ बहार में किस लिये
अश: चार चांद लग गये हैं तेरे मेरे प्यार में इस लिये

Comments/Credits:

			 % Contributor: Neha Desai
% Transliterator: Neha Desai
% Date: 26 Apr 2004
% Series: GEETanjali
% Comments: Song picturised on Sudesh Kumar and Nanda
% generated using giitaayan
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image