Browse songs by

ek vo bhii diwaalii thii, ek ye bhii diwaalii hai

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image

(एक वो भी दिवाली थी, एक ये भी दिवाली है
उजड़ा हुआ गुलशन है, रोता हुआ माली है) २

(बाहर तो उजाला है मगर दिल में अँधेरा
समझो ना इसे रात, ये है ग़म का सवेरा) २
क्या दीप जलायें हम तक़दीर ही काली है
उजड़ा हुआ गुलशन है, रोता हुआ माली है

(ऐसे न कभी दीप किसी दिल का बुझा हो
मैं तो वो मुसाफ़िर हूँ जो रस्ते में लुटा हो) २
ऐ मौत तू ही आ जा दिल तेरा सवाली है
उजड़ा हुआ गुलशन है, रोता हुआ माली है

(एक वो भी दिवाली थी, एक ये भी दिवाली है
उजड़ा हुआ गुलशन है, रोता हुआ माली है) २

( मेले हैं चिराग़ों के
रंगीन दीवाली है
महका हुआ गुलशन है
हँसता हुआ माली है ) -२

( इस रात कोई देखे
धरती के नज़ारों को
शरमाते हैं ये दीपक
आकाश के तारों को ) -२
इस रात का क्या कहना -२
ये रात निराली है

महका हुआ गुलशन है
हँसता हुआ माली है

मेले हैं चिराग़ों के
रंगीन दीवाली है
महका हुआ गुलशन है
हँसता हुआ माली है

( खा जाये नज़र धोखा
जुगनू हैं या फुलझड़ियाँ
( बारात है तारों की
या रंग भरी लड़ियाँ )-२
होंठों पे तराने हैं -२
बजती हुई ताली है

महका हुआ गुलशन है
हँसता हुआ माली है

मेले हैं चिराग़ों के
रंगीन दीवाली है
महका हुआ गुलशन है
हँसता हुआ माली है

Comments/Credits:

			 % Comments: GEETanjali Series
% Date: 25 October 2002
% Contributor: BOL ANAMOL #12081 [V S Rawat] (Lata Version)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image