Browse songs by

ek din raadhaa ne ba.nsuriyaa ... ik baa.Ns kii thii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


महाराज
सुनिये
एक कहानी

एक दिन राधा ने बंसुरिया नंदलाल की
चुपके से ली चुरा
घर लाई उठा
और क्रोध में आ बोली
कि निगोड़ी सच बलता
क्या मन्तर है
क्या जादू है वो
मोह रखा है जिससे मोहन को
हँस कर बाँसुरिया बोली यूँ
ठहरो सजनी बतलाती हूँ

इक बाँस की थी पतली सी नली -२
जंगल में उगी जंगल में पली -२
तक़दीर मगर कुछ अच्छी थी -२
मधुसूदन के मैं हाथ लगी -२
( सजनी जो कटा हर अंग मेरा
कुछ और ही निकला रंग मेरा ) -२
मैं प्रेम को समझी थी ऐसाँ -२
सुन कर होगी तुम भी हैराँ -२

छेदों से मेरा सिना है भरा -२
आ हाथ लगा कर देख ज़रा
छेदों से भरा सिना है मेरा
आ हाथ लगा कर देख ज़रा

अब तन क्या है इक तान सखी -२
प्रीतम के स्वार्थ है जान सखी -३

Comments/Credits:

			 % Song Courtesy: http://hindi-movies-songs.com/
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image