Browse songs by

Dolii cha.Dhate hii hiir ne bain kiye

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


डोली चढ़ते ही हीर ने बैन किये ओ~
मुझे ले चले बाबुल ले चले
वे~ मुझे रोक ले बाबुल रोक ले तू
डोली बैरी कहार लै चले रे

दो चार घड़ी भी न चैन पाया
दुःख दर्द मुसीबतें लै चले
वे~ मेरा कहा सुना सब माफ़ करना
कुछ रोज़ तेरे घर रह चले वे

तुझे राँझना रब के हवाले किया
हम देस में ज़ालिमा के चले
वे~ रही प्यार की झोली देख खाली
कोई चीज़ भी साथ न ले चले वे

मेरे बाद ख़बर तेरी कौन लेगा
तेरे भाग में है तन्हाइयाँ
वे~ मुझे और उम्मीद थी और हुआ
की रब ने बेपरवाइंया वे
ओ~ की रब ने बेपरवाइंया वे

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image