Browse songs by

din\-ba\-din vo mere dil se kyo.n duur\-duur hone lage

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


दिन-ब-दिन वो मेरे दिल से क्यों दूर दूर होने लगे
मेरे अरमाँ मेरे सपने क्यों चूर चूर होने लगे
दिन-ब-दिन वो ...

फूलों से थी सजी-सजी कल की वो ज़िंदगी
आयेंगे क्या न लौट कर गुज़रे वो दिन कभी
गुज़रे वो दिन कभी
क्या उठा धुआँ, मेरे दो जहाँ कैसे बेनूर होने लगे
दिन-ब-दिन वो ...

पलकों पे है रुका-रुका अश्कों का कारवाँ
बरसी घटा तो झूमकर, तृष्णा बुझी कहाँ
तृष्णा बुझी कहाँ
ज़िंदगी तुझे ऐसे भी सितम कैसे मंज़ूर होने लगे
दिन-ब-दिन वो ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Surajit Bose
% Date: 7 December 2000
% Comments: GEETanjali series
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image