Browse songs by

dil kii tamannaa thii mastii me.n

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


र: दिल की तमन्ना थी मस्ती में मंज़िल से भी दूर निकलते
अपना भी कोई साथी होता, हम भी बहकते चलते-चलते

आ: होते कहीं हम और तुम, ख्वाबों की रँगीन वादी में गुम -२
र: फिर उन ख्वाबों की वादी से, उठते आँखें मलते-मलते

र: हँसती ज़मीं, गाते कदम, चलते नज़ारे, चलते जो हम -२
आ: रुकते हम तो रुक-रुक जाता, ढलता सूरज ढलते-ढलते

दिल की तमन्ना थी मस्ती में मंज़िल से भी दूर निकलते
अपना भी कोई साथी होता, हम भी बहकते चलते-चलते

साथी मिला, यूँ तो मगर, रस्ते में था चाँदी का नगर -२
चाँदी की नगरी भाई उसे हम, रह गए आँखें मलते-मलते

यादों की धूल आँखों में है, दामन की हसरत हाथों में है -२
ख्वाबों के वीराने में तन्हा, थक गया राही चलते-चलते

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar (rajiv@hendrix.coe.neu.edu)
% Date: Sun Oct 22, 1995
% Credits: Ashok Dhareshwar (adhareshwar@worldbank.org)
% Editor: Rajiv Shridhar (rajiv@hendrix.coe.neu.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image