Browse songs by

dil kii duniyaa me.n ko_ii hamasaa bhii saudaa_ii na ho

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


दिल की दुनिया में कोई हमसा भी सौदाई न हो
चाक दामन बन के भी चाहे कि रुस्वाई न हो

उसकी तस्वीरें दिखाई दें हमें साँस में
ज़िंदगी उसका सरापा ओढ़ कर आई न हो

जब मुक़द्दर बट रहा था इश्क़ ने आवाज़ दी
मुझको दे दो ऐसी आँखों जिनमें बीनाई न हो

ऐ ख़याल-ए-यार उस दुनिया में पहुँचा दे हमें
जिसमें तन्हा रह के भी एहसास-ए-तन्हाई न हो

बज उठी हैं घंटियाँ नागहाँ दिल में 'क़तील'
उसने भूले से कहीं मेरी ग़ज़ल गाई न हो

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image