Browse songs by

dhiire dhiire subah huii jaag uThii zi.ndagii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


धीरे धीरे सुबह हुई जाग उठी ज़िंदगी
पंछी चले अम्बर को अम्बर को अम्बर को
माझी चले सागर को सागर को सागर को
प्यार का नाम जीवन है
मंज़िल है प्रीतम की गली

डूब के सूरज फिर निकला
सारे जहाँ को नूर मिला
दिल के द्वारे तुमको पुकारे
एक नई ज़िंदगी, प्यार का ...

किरणों से दामन भर लो
प्रीत से तुम तन मन भर लो
जिसमें जितनी प्यास जगी
उतनी ही प्रीत मिली, प्यार का ...

Comments/Credits:

			 % Credits: Preetham Gopalaswamy (preetham@src.umd.edu)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image