Browse songs by

dekhanaa qismat ki aap apane pe rashk aa jaaye hai - - Talat

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


देखना क़िस्मत कि आप अपने पे रश्क आ जाये है
मैं उसे देखूँ भला कब मुझसे देखा जाये है

ग़ैर को या-रब वो क्यूँ कर मना गुस्ताख़ी करें
गर हया भी उसको आती है तो शरमा जाये है

हो के आशिक़ वो परी-रुख़ और नाज़ुक बन गया
रंग खुलता जाये है जितना के उड़ता जाये है

शौक़ को ये लत कि हरदम नाला खेंचे जाइये
दिल की वो हालत कि दम लेने से घबरा जाये है

Comments/Credits:

			 % Credits: U V Ravindra
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image