Browse songs by

daur\-e\-Kizaa.N thaa dil ke chaman me.n

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


दौर-ए-ख़िज़ाँ था दिल के चमन में
कोई आज बनके बहार आ गया है
तन्हाइयाँ थीं वीरानियाँ थीं
कोई आज लेके क़रार आ गया है

कोई दिलकशी थी ना कोई ख़ुशी थी
बड़ी कश्मकश में ये ज़िंदगी थी
तुम आ गए जो सर-ए-शाम दिल को
आज उन ख़यालों पे प्यार आ गया है

ये कहते रहे दिल में शब-ए-ग़म के साये
चिराग़-ए-तमन्ना कोई तो जलाये
यूँ चांद चमका नया नूर लेकर
उमन्गों पे जैसे निखार आ गया है

दौर-ए-ख़िज़ाँ था दिल के चमन में

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Arunabha S Roy
% Date: 26 Jan 2005
% Series: GEETanjali
% generated using giitaayan
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image