Browse songs by

chalii kaun se desh gujariyaa tuu saj\-dhaj ke

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


त: चली कौनसे देश गुजरिया तू सज-धज के - २
आ: जाऊँ पिया के देश ओ रसिया मैं सज-धज के - २
त: चली कौनसे देश गुजरिया तू सज-धज के

त: छलकें मात-पिता की अँखियाँ
रोवे तेरे बचपन की सखियां
भैया करे पुकार हो
भैया करे पुकार ना जा घर-आंगन तज के
आ: जाऊँ पिया के देश ओ रसिया मैं सज-धज के
त: चली कौनसे देश गुजरिया तू सज-धज के

आ: दूर देश मेरे पी की नज़रिया
वो उनकी मैं उनकी संवरिया
बांधी लगन की डोर हो
बांधी लगन की डोर मैंने सब सोच-समझके
जाऊँ पिया के देश ओ रसिया मैं सज-धज के
त: चली कौनसे देश गुजरिया तू सज-धज के

त: दो दिन जग में धूम मचायें
जा के कोई वपस न आये
खोज खोज थक जायें हो
खोज खोज थक जायें दो नैना चाँद सुरज के
आ: जाऊँ पिया के देश ओ रसिया मैं सज-धज के
त: चली कौनसे देश गुजरिया तू सज-धज के

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Ravi Kant Rai (rrai@plains.nodak.edu)
% Credits: Satish Kalra
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image