Browse songs by

chale aa rahe hai.n wo zulfe.n bikhere - - Rafi

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


चले आ रहे हैं वो ज़ुल्फ़ें बिखेरे
उजाले से लिपटे हुए हैं अँधेरे

झुकी सी वो उनकी हयाबार आँखें
वो पलकों के साये घनेरे-घनेरे

कभी हो तो जाये मेरे घर चराग़ाँ
कभी आ तो जाओ अँधेरे-अँधेरे

अगर हो सके इनको अपना बना लें
ये पुरकैफ़ लम्हे न तेरे न मेरे

Comments/Credits:

			 % Series: Rafi Veritable Gems, Date: 15 Aug 2004
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image