Browse songs by

chaa.Nd nikalegaa jidhar ham na udhar dekhe.nge

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


चाँद निकलेगा जिधर हम न उधर देखेंगे
जागते सोते तेरी राह-ए-गुज़र देखेंगे

इश्क़ तो होँठों पे फ़रियाद न लायेगा कभी
देखने वाले मुहब्बत का जिगर देखेंगे

ज़िंदगी अपनी गुज़र जायेगी शाम-ए-ग़म में
वो कोई और ही होंगे जो सहर देखेंगे

फूल महकेंगे, चमन झूम के लहरायेगा
वो बहारों का समा हम न मगर देखेंगे

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image