Browse songs by

bujhaa do diipak huu.N

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


बुझा दो दीपक हूँ अन्धेरा कर दो
उठा दो घूँघट, हाय! सवेरा कर दो
बुझा दो दीपक हूँ ...

शरम के मारे हाथों से ये चेहरा ढाँप के
न दूर दूर जाओ सर से काँप काँप के
कि अब आओ पास, मेरी प्यास तो बुझा दो
कोई ग़म है तो हाय! वो मेरा कर दो
बुझा दो दीपक हूँ ...

बदल लो रूप अपना आज मेरे प्यार से
सजा दो मेरी सूनी सेज को बहार से
खुशी के फूल ग़म के धूल पे बिछा के
इसे खुशियों का हाय! बसेरा कर दो
बुझा दो दीपक हूँ ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: K Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image