Browse songs by

bhuulii bisarii chand ummide.n chand fasaane yaad aa_e

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


भूली बिसरी चन्द उम्मिदें चन्द फ़साने याद आए
तुम याद आये और तुम्हारे साथ ज़माने याद आये

दिल का नगर आबाद था फिर भी जैसे ख़ाक सी उड़ती रहती थी
कैसे ज़माने ऐ ग़म-ए-दौराँ तेरे बहाने याद आये

हँसने वालों से डरते थे छुप छुप कर रो लेते थे
गहरी गहरी सोच में डूबे तो दीवाने याद आये

ठण्डी सर्द हवा के झोंके आग लगाकर छोड़ गये
फूल खिले शाख़ों पे नये और दर्द पुराने याद आये

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image