Browse songs by

bhaTake hue musaafir ... vo paas nahii.n majabuur hai dil

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


भटके हुए मुसाफ़िर मन्ज़िल को ढूँढते हैं
दिल खो गया हमारा हम दिल को धूँढते हैं

वो पास नहीं मजबूर है दिल,हम आस लगाये बैठे हैं
उम्मीद भरे अर्मानों का तूफ़ान चुपाये बैठे हैन
जाओ के वोही बेदर्द हो तुम,वादों का जिन्हे कुच पाक(?)नहीं
हम हैं के तुम्हारे वादों पर दुनिया को भुलाये बैठे हैं
वो पास नहीं...

बरबाद है दिल उजड़ा है चमन,बेरंग हुई फूलों की खबन
बेकार उलझते कातों से दामन को बचाये बैठे हैं
वो पास नहीं...

Comments/Credits:

			 % Transliterator:Srinivas Ganti
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image