Browse songs by

bhaabhii ka.ngan ... jis desh me.n ga.ngaa rahataa hai

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


भाभी कंगन खनकाती है और माँ लोरियाँ गाती है
मद्धम मद्धम सी पवन चले कोयलिया गीत सुनाती है
बच्चा वहाँ आज भी चाँद को चंदामामा कहता है
जिस देश में गंगा रहता है

गाँव का पनघट पनघट का पानी भरे गगरिया कोई दीवानी
ठंडी ठंडी पुरवाई में मीठी मीठी खुश्बू
मत पूछो उस खुश्बू में होता है कैसा जादू
जादू ऐसा होता है के हर कोई झूमता रहता है
जिस देश में गंगा ...

दिल बसा कर गाँव की ममता शहर में आया मैं जोगी रमता
सुख दुःख सारे मान कर और उन को अपना कर
तरह तरह के नातों से घर बन जाता है सुंदर
पल पल सच्चे रिश्तों का वहाँ प्यार बरसता है
जिस देश में गंगा ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image