Browse songs by

ambuaa kii Daarii pe bole re koyaliyaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


अम्बुआ की डारी पे बोले रे कोयलिया
प्रीत न करना अजी, प्रीत न करना जी
बोले रे कोयलिया ...

सुलग सुलग मैं काली भयी
कोयला बनी ना राख
जल जल के मरना अजी, प्रीत न करना जी
बोले रे कोयलिया ...

शहद के अन्दर ज़हर भरा है
पता नहीं वो किस ने किया है
आहें न भरना अजी, प्रीत न करना जी
बोले रे कोयलिया ...

खुशबू से तुम मस्त न होना
काँटों को हाथों से न छूना
फूलों से डरना अजी, प्रीत न करना जी
बोले रे कोयलिया ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image