Browse songs by

agar terii jalavaa\-numaa_ii na hotii

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


र : ( अगर तेरी जलवा-नुमाई न होती
ख़ुदा की क़सम ये ख़ुदाई न होती ) -२
सु : ( अगर आँख तुमने मिलाई न होती
मेरी ज़िन्दगी मुस्कराई न होती ) -२

र : बहारों का मौसम न होता सुहाना
तेरे दम क़दम से हुआ आशिक़ाना
नज़ारों में ये दिलरुबाई न होती
ख़ुदा की क़सम ...

सु : तेरे प्यार ने मुझ पर एहसाँ किया है
मेरा दिल लिया है मुझे दिल दिया है
अगर तूने उल्फ़त निभाई न होती
मेरी ज़िन्दगी मुस्कराई ...

र : अगर नूर तेरा न आता जहाँ में
तो रखा ही क्या था ज़मीं आसमाँ में
कि मालिक ने दुनिया बनाई न होती
ख़ुदा की क़सम ...

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image