Browse songs by

achchhaa ye mohabbat kaa asar dekh rahaa huu.N

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


अच्छा ये मोहब्बत का असर देख रहा हूँ
तुम ही नज़र आते हो जिधर देख रहा हूँ

काबे की ज़रूरत है न बुतख़ाने की ख़्वाहिश
जिस सिम्त दिखाते हो उधर देख रहा हूँ

ये है कशिश-ए-हुस्न कि है हसरत-ए-दीदार
ताक़त नहीं बाक़ी है मगर देख रहा हूँ

कम-कम सा हुआ जाता है तारों का झलकना
आने को है पैग़ाम-ए-सहर देख रहा हूँ

Comments/Credits:

			 % Contributor: Vinay P Jain
% Transliterator: Vinay P Jain
% Credits: Arun urf Cricfan urf ashimha
% Date: 10 Aug 2004
% Series: Andaaz-e-Bayaan Aur
% generated using giitaayan
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image