Browse songs by

abhii to sajii hai muraado.n kii duniyaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


अभी तो सजी है मुरादों की दुनिया -२
अभी से ये दुनिया मिटायेंगे कैसे
कहानी अधूरी है और रात बाकी
चिराग़-ए-तमन्ना बुझायेंगे कैसे

( उमंगें जवाँ हैं मुहब्बत जवाँ है
अभी जान देने की फ़ुरसत कहाँ है ) -२
बहारों के दिन हैं बहारों की रातें
ख़िज़ाँ को गले से लगायेंगे कैसे
अभी तो सजी है

( हँसा कर रुलाना बना कर मिटाना
कहीं तुझ को ज़ालिम न समझे ज़माना ) -२
जो इन्साफ़ तेरा नहीं है तो मालिक
तेरे सामने सर झुकायेंगे कैसे

अभी तो सजी है मुरादों की दुनिया
अभी से ये दुनिया मिटायेंगे कैसे
अभी तो सजी है

Comments/Credits:

			 % Song courtesy: http://www.indianscreen.com (Late Shri Amarjit Singh)
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image