Browse songs by

ab kise pataa kal ho kyaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


अब किसे पता कल हो क्या
दिल ही दिया तो चाहे जो हो सो हो
अब किसे पता ...

मुद्दत के बाद मिले थे
- ओ हो
दिलों के द्वार खिले थे
- अच्छा
मस्ती सी छा चुकी थी
जैसे नींद आ चुकी थी
आँख जो खुली तो देखा
वो जा चुकी थी
अब कोई चले, कोई जले
दिल ही दिया तो चाहे जो हो सो हो
अब किसे पता ...

आखिर कल मौका पा के
झूमे ये गीत गा के
नैना जब से लड़े हैं
नशे में हम पड़े हैं
आँख जो खुली तो देखा
बाबा खड़े हैं
अब रोन पड़े, गाना पड़े
दिल ही दिया तो चाहे जो हो सो हो
अब किसे पता ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Vijay Kumar
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image