Browse songs by

ab ke baras bhej bhaiyaa ko baabul

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


अब के बरस भेज भैया को बाबुल
सावन ने लीजो बुलाय रे
लौटेंगी जब मेरे बचपन की सखीयाँ
देजो संदेशा भियाय रे
अब के बरस भेज भीयको बाबुल ...

अम्बुवा तले फिर से झूले पड़ेंगे
रिमझिम पड़ेंगी फुहारें
लौटेंगी फिर तेरे आँगन में बाबुल
सावन की ठंडी बहारें
छलके नयन मोरा कसके रे जियरा
बचपन की जब याद आए रे
अब के बरस भेज भीयको बाबुल ...

बैरन जवानी ने चीने खिलौने
और मेरी गुड़िया चुराई
बाबुल की मैं तेरे नाज़ों की पाली
फिर क्यों हुई मैं पराई
बीते रे जग कोई चिठिया न पाती
न कोई नैहर से आये, रे
अब के बरस भेज भीयको बाबुल ...

Comments/Credits:

			 % Transliterator: Rajiv Shridhar 
% Credits: David Windsor 
% Date: 02/17/1997
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image