Browse songs by

aaj hu_ii hai bhor suhaanii pahalii baar

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


आज हुई है भोर सुहानी
भोर सुहानी
आज हुई है भोर सुहानी पहली बार पहली बार -२

चमक भरी ये लाली मैंने मैंने कभी न देखी -२
दिन को ये दीवाली मैंने मैंने कभी न देखी
सूरज में है
सूरज में है नई जवानी पहली बार पहली बार

सौ फूल खिले शाख़ों के ये हुस्न कभी ना पाये -२
सौ रंग चमन ने बदला ये रंग नज़र ना आये -२
बाग़ में आयी
बाग़ में आयी रुत की रानी पहली बार पाह्ली बार

भंवरा और कली का मेल मुझको सखी न भाया -२
गुलशन में ये प्यार का खेल मुझको कभी न भाया
नई लगी है
नई लगी है बात पुरानी पहली बार पाह्ली बार
आज हुई है भोर सुहानी पहली बार पहली बार

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image