Browse songs by

aaj apanii mehanato.n kaa mujhako samaraa mil gayaa

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


हाय
( आज अपनी मेहनतों का
मुझको समरा (?) मिल गया ) -२
किसमें सुख खोया हुआ था मैं -२
वो सहरा मिल गया
आज अपनी

रह गया

रह गया मिलने से क्या
जब चैन दिल का मिल गया

फूल ये आधा गया
तो बाग़ सारा मिल गाया
फूल ये आधा गया
तो

सूखे पत्ते
सूखे पत्ते झाड़ कर
सर-सब्ज़ होते हैं शज़र
जितना कुछ लुटता रहा
उससे जियादा मिल गया
जितना कुछ लुटता

आरज़ू
आरज़ू तस्कीन-ए-दिल को
आरज़ू-ए-एहतमात

ये ना सोचो क्या न पाया
ये कहो क्या मिल गया

आज अपनी मेहनतों का
मुझको समरा (?) मिल गया

View: Plain Text, हिंदी Unicode, image