Browse songs by

aah ko chaahiye ek umr asar hone tak - - Saigal

Back to: main index
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image


आह को चाहिये एक उम्र असर होने तक
कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक

आशिक़ी सब्र-तलब हाय और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूँ ख़ून-ए-जिगर होने तक

हमने माना के तग़ाफ़ुल न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जायेंगे हम तुम को ख़बर होने तक

यक नज़र बेश नहीं फ़ुरसत-ए-हस्ती ग़ाफ़िल
गर्मी-ए-बज़्म है इक रक़्स-ए-शरर होने तक

ग़म-ए-हस्ती का 'असद' किस से हो जुज़ मर्ग इलाज
शमा हर रँग में जलती है सहर होने तक

Comments/Credits:

			 % Credits: U.V. Ravindra
		     
View: Plain Text, हिंदी Unicode, image